होम -> सिनेमा

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 31 जुलाई, 2019 11:11 AM
गोपी मनियार
गोपी मनियार
  @gopi.maniar.5
  • Total Shares

भारत के संगीत चमकते सितारे मोहम्मद रफी ने आज ही के दिन दुनिया को अलविदा कहा था. रफी साहब एक ऐसे गायक थे, जिनके बिना आज भी संगीत की दुनिया अधुरी मानी जाती है. मोहम्मद रफी एक ऐसा नाम है जिसे शायद ही कोई न जानता हो. कई दशकों तक उन्होंने बेहतरीन फिल्मी और गैर फिल्मी गाने गाए. अहमदाबाद में उनके एक चाहने वाले उमेश मखीजा ने उन्हें भगवान का दर्जा दे दिया है. उमेश अपने घर में ना सिर्फ रफी साहब के लिये एक पूरा कमरा बनाया है, बल्कि उनका मंदिर भी बनाया है. कपडे़ का व्यापार करने वाले मखीजा रफी साहब को भगवान की तरह मानते हैं.

उनके दीवानेपन की हद यह है कि अपने मकान का एक कमरा उन्होंने रफी के नाम पर रखा हैं. इस कमरे का दर्जा मंदिर का है और यहां पर हर चीज पर रफी साहब का नाम है. इस कमरे में एक घड़ी भी रखी गयी है, उस घड़ी की खास बात ये है कि ये घड़ी 10 बज कर 29 मिनट पर रुकी हुई है. ये वो वक्त था जब 31 जुलाई 1980 में रफी साहब ने अंतिम सांस ली थी. कमरे में रफी साहब की यादें सहेजती हुई 55 तस्वीरें लगायी गयी हैं. 55 तस्वीरें इसलिए क्योंकि रफी साहब की उम्र 55 साल की थी. कमरे के बेड पर बिछाई चादर पर रफी के गाने नगमों को प्रिन्ट किया गया है. इसी बेड पर दो तकियों पर रफी साहब के जन्म और मौत की तारीख लिखी हुई है.

mohammad rafiचादर पर रफी के गाने नगमों को प्रिन्ट किया गया है

उनके मंदिर में रफी साहब की कब्र की मिट्टी और रफी साहब जिन चीजों का इस्तमाल किया करते थे वो सभी असल चीजें रफी साहब के परिवार वालों ने उमेश मखीजा को दी हैं.

mohammad rafiरफी साहब का चश्मा

उमेश मखीजा का कहना है कि रफी साहब को वो पहले से इतना नहीं चाहते थे, लेकिन पहली बार जब उनका गाना सुना था, तब पता नहीं क्या हुआ था, मैं बस रफी साहब की ओर खिंचता चला गया. आज उमेश मखीजा के पास रफी साहब के 4000 से ज्यादा गानों का संग्राहलय है. यही नहीं उमेश मखीजा को लोग रफी साहब के भक्त के तौर पर जानते हैं. जो भी किताब रफी साहब के जीवन पर लिखी जाती है उसे उमेश मखीजा के जरिए बनाए गए रफी साहब के कमरे में पहले रखा जाता है.

mohammad rafiउमेश मखीजा के पास रफी साहब के 4000 से ज्यादा गानों का संग्राहलय है

दिलचस्प बात तो ये है कि रफी साहब के लिये उनके घर में बने इस खास कमरे को देखने के लिए रफी साहब के चाहने वाले यहां अक्सर आया करते हैं. इस कमरे में 365 दिन 24 घंटे रफी साहब के ही गाने बजाए जाते हैं. मखीजा के पास मोहम्मद रफी द्वारा गाए चार हजार से ज्यादा गीतों का भंडार हैं. इनमें कुछ गाने तो ऐसे हैं जिनका और कहीं मिलना बहुत मुश्किल है. ये गाने हिंदी, पंजाबी, सिंधी, गुजराती और देश की अन्य भषाओ में हैं. यहां तक कि दो गीत तो अंग्रेजी में भी गाए हुए हैं.

mohammad rafiरफी साहब के चाहने वाले यहां दूर दूर से आते हैं.

उमेश मखीजा की दीवानगी इस हद तक है कि वो रवीवार को रफीवार के तौर पर मनाते हैं. इस दिन दोपहर 12 से लेकर शाम 5 बजे तक जो भी रफी साहब को चहता है वो यहां पर आकर रफी साहब के गानों का लुफ्त उठा सकता है. रफी साहब के चाहने वाले यहां दूर दूर से आते हैं.

रफी साहब के ही एक गाने के लफ्ज यहां लिखे हैं, महकी महकी फ़िजा ये कहती है, तु कहीं आस पास है दोस्त....ये लफ्ज़ और यही रुह इस कमरे में जिंदा लगती है.

ये भी पढ़ें -

The Lion King: आर्यन खान की लॉन्चिंग किश्तों में क्यों?

15 अगस्त रिलीज़: बॉलीवुड में मुकाबला बराबरी का है

कबीर सिंह कठघरे में खड़ा है, कुछ जरूरी सवालों के जवाब दें लड़के

लेखक

गोपी मनियार गोपी मनियार @gopi.maniar.5

लेखिका गुजरात में 'आज तक' की प्रमुख संवाददाता है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय