charcha me| 

समाज

 |  5-मिनट में पढ़ें  |   17-08-2017
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

नेपाल की 'छाउपड़ी' प्रथा के बारे में जिसे भी पता चला वो महिलाओं पर हो रही इस क्रूरता को सुनकर हैरान रह गया. माहवारी के समय महिलाओं के साथ ऐसा अमानवीय व्यवहार दुनिया में शायद ही किसी और जगह होता हो.

नेपाल के बेहद ठंडा इलाका सिमिकोट हमेशा बर्फ से ढका रहता है. यहां भी पीरियड्स में महिलाओं को अपवित्र माना जाता है, लेकिन इस कदर कि इन दिनों में उनका बहिष्कार ही कर दिया जाता है, उन्हें घर में रहने ही नहीं दिया जाता. लोगों का कहना है कि वो ऐसा नहीं करेंगे तो तो उनके देवी-देवता नाराज हो जाएंगे.

chaupadi, tradition, nepalएक सप्ताह घर से बाहर रहती हैंमहिलाएं

उस एक सप्ताह यहां की महिलाएं बाहर ठंड में ही बिताती हैं. घर के बाहर गोठ में रहती हैं, जो जानवरों के रहने की जगह होती है. ये जगह बच्चियों और महिलाओं की सुरक्षा के लिए भी सही नहीं होतीं. कई बार बलात्कार की शिकार भी हो जाती हैं.

chaupadi, tradition, nepalघर के बाहर बनेी होती हैं छोटी छोटी कोठरियां

ये क्रूर नियम सिर्फ माहवारी वाली महिलाओं के लिए नहीं बल्कि मां बनने वाली महिलाओं पर भी लागू होता है. गोठ में ही बच्चा भी जना जाता है और मां और बच्चे को एक महीना इन्हीं गोठ में रहना होता है, क्योंकि उस दौरान मां अपवित्र कहलाई जाती है. हर साल करीब 2-3 माताएं इस दौरान दम तोड़ देती हैं.

chaupadi, tradition, nepalजानवरों केे रहने के स्थान पर मां और नवजात भी रहने को मजबूर

नेपाल में नर्क भोग रही इन महिलाओं के बारे में जानकर सिहरन होती है, इसे विस्तार से यहां पढ़ा जा सकता है. 'माहवारी के दौरान इन महिलाओं का इंतजार करता है एक भयानक नर्क!'

देखिए वीडियो और समझिए-

इस रिवाज की आड़ में हो रहे अपराध और मौत की घटनाओं को देखते हुए नेपाल सरकार ने 2005 में इस प्रथा पर रोक लगा दी थी पर फिर भी लोग इस प्रथा को बदस्तूर मनाते रहे.

chaupadi, tradition, nepal2005 में इस प्रथा पर लगी थी रोक

पर इस कुप्रथा का अंत अब बेहद करीब है

पिछले ही दिनों इसी प्रथा के चलते दो बच्चियों की मौत हो गई, एक को बाहर सांप ने काट लिया और दूसरी का दम गोठ में घुट गया. और इसके बाद अब नेपाल की सरकार ने एक क्रांतिकारी फैसला लेते हुए एक कानून बनाया है जिसके तहत ये छाउपड़ी प्रथा को अब आपराध माना जाएगा. अगर प्रथा के नाम पर माहवारी के दौरान महिलाओं के साथ  किसी को भी इस तरह का व्यवहार करते पाया गया तो उसे 3 महीने की जेल की सजा और 3000 नेपाली रुपए जुर्माने के तौर पर देने होंगे. महिलाएं अप खुद पर हो रहे इस अमानवीय व्यवहार के लिए पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करा सकती हैं.

chaupadi, tradition, nepalप्रथाओं के आगे कानून की कीमत नहीं

पर बात जब हमारी संस्कृति में बसी प्रथाओं-रिवाजों और कानून की हो तो रिवाजों का पलड़ा हमेशा कानून से भारी रहता है. सरकार द्वारा लगाई रोक पर तो लोगों ने पहले भी ध्यान नहीं दिया था. लेकिन हां, सख्त कानून बनाकर शायद इस कुप्रथा पर लगाम लगाई जा सके.

पर सवाल तो अब भी उठेंगे

कानून बनने के बाद भी सबसे बड़ा सवाल ये कि क्या घर की महिलाएं, बच्चियां घर के ही लोगों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करवाने जाएंगी? और अगर वो चली भी गईं, तो क्या ये संभव नहीं कि 3000 रुपए देकर भी वो महिलाओं को उन्हीं कोठरियों में सोने को मजबूर करें? लोगों के कट्टरपन का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि, अपनी बच्चियों को इस प्रथा के चलते खो चुके परिजनों का अब भी यही कहना है कि वो इस परंपरा को ऐसे ही निभाते रहेंगे. तो लोगों की आस्था इन कानूनों से कहीं ज्यादा बढ़कर है. और ये आने वाला समय खुद बता देगा.

chaupadi, tradition, nepalनेपाल से लगे भारत में भी पहाड़ी इलाकों में इसी तरह की कुप्रथा चल रही है

हालांकि माहवारी को लेकर नियम कायदे गिनाने में हमारा भारत भी पीछे नहीं है, कहीं कम- कहीं ज्यादा तो कहीं बहुत ही ज्यादा दकियानूसी विचारों को आज भी हमारा देश ढो रहा है. लेकिन नेपाल जैसा कानून अभी तक यहां नहीं लाया गया है, जबकि नेपाल से लगे भारत में भी पहाड़ी इलाकों में इसी तरह की कुप्रथा आज भी चल रही है. पर वो वहां की संस्कृति में रिवाजों की तरह बसी हुई है जिसपर न तो कोई आवाज उठाता है और न विरोध ही करता है. 

ये भी पढ़ें-

स्कॉटलैंड से कुछ सीखिए मोदी जी !

माहवारी के दौरान इन महिलाओं का इंतजार करता है एक भयानक नर्क!

मिलिए भारत के 'माहवारी' वाले आदमी से

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय