charcha me| 

ह्यूमर

 |  2-मिनट में पढ़ें  |   05-11-2016

'एक रेंक एक पेंशन' (OROP) योजना से असंतुष्ट होकर आत्महत्या करने वाले पूर्व सैनिक रामकिशन ग्रेवाल के परिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने एक करोड़ रुपए की सहायता और हर संभव मदद देने की घोषणा की. यहां तक कि केजरीवाल पूर्व सैनिक के अंतिम संस्कार में भाग लेने भी गए और वहां ये भी कहा कि दिल्ली सरकार रामकिशन को शहीद का दर्जा देगी.

orop650_110516060834.jpg
 दिल्ली सरकार का रामकिशन को शहीद का दर्जा देने का वादा

ये भी पढ़ें- केजरीवाल कहीं नत्था की फौज प्रमोट तो नहीं कर रहे?

अब ये सुसाइड है या शहादत ये तो नेता ही जानें, लेकिन ऐसे सुसाइड पर राजनीति तो बनती है और फिर ऑफर की बरसात भी होती है

- सल्फास की दो गोली फिर लग जाएगी आपकी बोली.

- भारत में किसी सरकारी योजना का विरोध करते हुए आप अपनी जान दे सकते है.

- उसके बाद आप अमर हो जाएंगे. बेतहाशा पैसा, प्रसिद्धि से आप ओत प्रोत हो जायेंगे.

- सरकार से लेकर विरोधी तक सभी आपके परिवार के आगे पीछे झूलने लगेंगे.

- भगत सिंह और चंद्रशेखर आज़ाद के साथ आपका नाम सम्मान से लिया जायेगा.

- आप ऊपर से अपने लाश के ऊपर गर्व महसूस कर सकते है... इतरा भी सकते है...

- इस सुनहरे मौके को जाने दिया तो समझो आप एक बड़े मौके को हाथ से जाने दे रहे हैं.

- उज्वला योजना के विरोध में यदि कोई महिला ये कहकर जहर खा ले कि उसको गैस कनेक्शन में देरी हो रही थी, तो समझो उस महिला का पूरा खानदान तर जायेगा. पार्क स्टेडियम चौराहे गली रोड सबके नाम उसके नाम के हो जाएंगे.

जय हो अंध राजनीति की..... जय हो...!

ये भी पढ़ें- एक आदत है लाशों पर सियासत लेकिन ये जरूरी भी है

लेखक

डीपी पुंज डीपी पुंज @dharmprakashpunj

स्वतंत्र लेखक

आपकी राय