charcha me| 

होम -> सोशल मीडिया

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 29 दिसम्बर, 2018 02:30 PM
बिलाल एम जाफ़री
बिलाल एम जाफ़री
  @bilal.jafri.7
  • Total Shares

उस पल के लिए अब इंतजार नहीं कर सकता जब वे 'द इनसेंसिटिव प्राइम मिनिस्टर' मूवी बनाएंगे. यह एक्सीडेंटल होने से बहुत बुरा है.' - उमर अब्दुल्ला

जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला का शुमार देश के उन लोगों में है. जो मौका कोई भी हो, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध करने का बहाना ढूंढ ही लेते हैं. जैसा अब तक पीएम मोदी पर उमर का रुख रहा है यदि उसका अवलोकन किया जाए तो मिलता है कि उमर, पीएम मोदी के प्रबल आलोचक हैं. उमर अब्दुल्ला एक बार फिर चर्चा में हैं. वजह है जल्द ही रिलीज होने वाली फिल्म द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर का ट्रेलर और उस ट्रेलर के मद्देनजर उनका एक ट्वीट. ट्वीट पूरे सोशल मीडिया पर आग की तरह फैल रहा है. इस ट्वीट को देखकर कहना गलत नहीं है कि शायद आने वाली फिल्म द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर मोदी विरोध के चलते उमर अब्दुल्ला के गले के नीचे नहीं उतर रही.

ध्यान रहे कि अनुपम खेर अभिनीत फिल्म 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' पर चल रहा बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा है. फिल्म को लेकर तरह तरह के सियासी बयान आ रहे हैं. जब बयानबाजी और आरोप प्रत्यारोप का दौर चल रहा हो और उमर चुप रहें ये नामुमकिन है. जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने भी इस मामले में बीजेपी पर निशाना साधा और बहुत सख्त तंज किया है. उमर ने ट्वीट किया है कि, 'मैं उस पल के लिए अब इंतजार नहीं कर सकता जब वे 'द इनसेंसिटिव प्राइम मिनिस्टर' मूवी बनाएंगे. यह एक्सीडेंटल होने से बहुत बुरा है.'

ज्ञात हो कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह के मीडिया सलाहकार संजय बारू द्वारा लिखी किताब के आधार पर 'द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर' मूवी का निर्माण किया गया है. फिल्म को लेकर सबसे दिलचस्प बात ये है कि ट्रेलर रिलीज होने केकुछ पलों बाद ही कांग्रेस ने आरोप लगाए थे कि फिल्म के निर्माता निर्देशकों ने तथ्यों के साथ छेड़छाड़ की है.

चूंकि फिल्म के ट्रेलर पर विवाद गहराता जा रहा है ऐसे में यदि फिल्म के ट्रेलर को ध्यान से देखें तो मिलता है कि इसमें डॉक्टर मनमोहन सिंह को 2014 के आम चुनावों से पहले कांग्रेस पार्टी की अंदरूनी राजनीति का शिकार होते हुए दिखाया गया है.

तीन मिनट के इस ट्रेलर की शुरुआत एक डायलॉग के साथ हुई है. डायलॉग के अनुसार महाभारत में दो फैमिली थी. इंडिया में तो एक ही है.' इस डायलॉग से ये बात खुद ब खुद साफ हो जाती है कि निर्माता निर्देशक ने फिल्म को प्योर पॉलिटिकल ड्रामा बनाने की भरपूर कोशिश की है. फिल्म के ट्रेलर में ऐसी बहुत सी बातें हैं जिन्हें देखकर महसूस होता है कि फिल्म के जरिये निर्माता निर्देशक ने सोनिया गांधी, राहुल गांधी, प्रियंका वाड्रा और गांधी परिवार के अन्य लोगों की असलियत को जनता के सामने रखा गया है.

भाजपा द्वारा फिल्म के ट्रेलर को हाथों हाथ लिया गया है. भाजपा की तरफ से ट्वीट करते हुए कहा गया है कि फिल्म साफ बताती है कि कैसे एक ही परिवार ने एक लम्बे समय तक देश की कमान अपने हाथ में ली और उसे लूटा.

वहीं कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इसे 2019 के आम चुनावों से पहले बीजेपी द्वारा नकली प्रचार का हिस्सा बताया है.

बहरहाल, जिस तरह से फिल्म के ट्रेलर को लेकर सियासी घमासान मचा है. फिल्म के ट्रेलर ने उमर अब्दुल्ला जैसे लोगों को मोदी विरोध का पूरा मौका दिया है. फिल्म कितनी बड़ी हिट साबित होगी इसका फैसला वक़्त करेगा मगर जो वर्तमान है वो ये साफ बता रहा है कि 2019 आम चुनावों से पहले इस फिल्म के ट्रेलर का आना कांग्रेस को बड़ी मुसीबत में डाल सकता है. 

ये भी पढ़ें -

जनवरी 2019 में आएंगी भारतीय राजनीति की पोल खोलने वाली दो फिल्में

नसीरुद्दीन शाह के बयान पर 5 टिप्पणियां, जो बेहद खास हैं

बीजेपी की हार पर गडकरी के 'मन की बात' कड़वी गोली थी

लेखक

बिलाल एम जाफ़री बिलाल एम जाफ़री @bilal.jafri.7

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय