charcha me| 

होम -> सोशल मीडिया

 |  एक अलग नज़रिया  |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 07 जून, 2022 07:26 PM
ज्योति गुप्ता
ज्योति गुप्ता
  @jyoti.gupta.01
  • Total Shares

किसी लड़की को यह एहसास करवाओ कि उसका रेप होने वाला है, एक ऐड में ये कहां की क्रिएटिविटी है? क्या आपने कभी ऐसा ऐड पहले कभी देखा था? हो सकता है कि देखा भी हो, क्योंकि प्रॉडक्ट को बेचने के लिए कुछ कंपनियां किसी भी हद तक जा सकती हैं. पहला फंडा तो यह है कि किसी भी ऐड में लड़की वाला एंगल लाओ. चाहें वह साबुन का ऐड हो या पुरुषों के अंडरवियर का.

इन प्रचार में लड़कियां कभी लड़कों के बनियान पर मरती हैं तो कभी उनके डियोड्रेंट की खुशबू सूंघकर दौड़कर उनसे लिपट जाती हैं. माचो के अंडरवियर वाला ऐड तो आपको याद ही होगा. एक पर तो बैन ही लगाना पड़ गया था जिसमें सना खान एक नई नवेली दुल्हन के रूप में घाट पर जाकर अपने पति का अंडरवियर साफ करती हुई दिखी थीं. उसमें इतनी अश्लीलता थी कि उसे बैन करना पड़ा. वहीं अमूल माचो के नए ऐड में यह दिखाया जा रहा है कि कैसे रश्मिका मंदाना विकी कौशल का अंडरवियर देखकर इंप्रेस हो जाती हैं.

Perfume Controversial Advertisement, perfume ad, Perfume Controversial Advertisement ban, shot Perfume Controversial adपरफ्यूम के ऐड के लिए लड़की को गैंगरेप के नाम पर डराओ...ऐसा पहली बार देखा है

इस ऐड में आखिर ऐसा क्या है?

हम जिस ऐड की बात कर रहे हैं उसमें दिखाया गया है कि, एक लड़की का 4 लड़के पीछा करते हैं. फिर वे पास में आकर खड़ें हो जाते हैं. वह लड़की कुछ सामान खरीद रही होती है. तभी एक लड़का पीछे से कहता है कि 'हम चार', फिर दूसरा लड़का कहता है 'ये एक', इसके बाद तीसरा लड़का पूछता है कि फिर 'शॉट कौन लेगा'? वह लड़की डर जाती है और एक चीख के साथ घबराकर पीछे मुड़कर देखती है. तभी एक लड़का एक परफ्यूम की बॉटल उठाकर ले जाता है. वह लड़की इसके बाद खुद मुस्कुरा देती है, क्योंकि वह खुद को सुरक्षित महसूस करती है. मतलब परफ्यूम बेचने के लिए गैंगरेप वाले सीन को क्रिएट किया गया है. ऐसा लग रहा है कि यह रेप नहीं बल्कि कोई रोमांटिक सीन हो...

दूसरे ऐड में क्या है?

वहीं इस परफ्यूम के दूसरे ऐड में भी गैंगरेप वाले सीन को ही फिल्माया गया है. चार लड़के हंसते हुए एक कमरे में घुसते हैं. जहां एक लड़का और लड़की बैठे हुए हैं. तभी उनमें से एक लड़का पूछता है 'शॉट मारा क्या?' इस पर वह लड़का भी एडिट्यूड के साथ जवाब देता है 'हां मारा ना'...उसकी बात सुनकर लड़की हैरानी से उसकी तरफ देखने लगती है.

तभी दूसरा लड़का कहता है 'अब हमारी बारी'...और वह लड़की के पास आने लगता है. लड़की उन्हें अपनी तरफ आते हुए देखकर डर जाती है. उसे लगता है कि उसका रेप होने वाला है. तभी वह लड़का जाकर परफ्यूम की बॉटल उठा लेता है. यह देखकर लड़की रिलैक्स महसूस करती है कि रेप जैसा कुछ नहीं हुआ. सोचिए अगर, इस ऐड को रेप की शिकार हुई पीड़िता ने देखा होगा तो उस पर क्या बीती होगी? एक बार फिर से उसे कितनी तकलीफ हुई होगी. भला उसके दर्द को कुरेदने वाले क्या जानेंगे?

लड़की को इंप्रेस करना है तो खुशबूदार डियो लगाओ...वाला एडवर्टाइजमेंट तो हम पहले ही देख चुके हैं, लेकिन परफ्यूम के ऐड के लिए लड़की को गैंगरेप के नाम पर डराओ...यह पहली बार देखा है. सोचिए इस ऐड का कंटेंट पास होने से पहले कितनी नजरों से गुजरा होगा लेकिन जब कई लोगों के लिए रेप की खबरें की सामान्य हैं तो फिर यह ऐड क्या चीज है?

क्रिएटिव्स, स्क्रिप्ट, एजेंसी, क्लाइंट, कास्टिंग... क्या सभी को लगा होगा कि रेप जोक सही चीज है? ऊपर से इसे बनाने वालों के दिमाग की मानसिकता कैसी होगी जो इस गंदगी को अपनी क्रिएटिविटी बता रहो होगा. NCRB 2020 की रिपोर्ट कहती हैं कि भारत में हर रोज रेप के लगभग 77 मामले दर्ज होते हैं. ऐसे कितने मामले हैं जिसके बारे में कोई नहीं जानता. ऐसे में रेप को बढ़ावा देने यह कंटेट खुशबू कैसे फैला सकता है? यह किसी के लिए ओके कैसे हो सकती है?

देखिए इस ऐड को देखने वालों ने क्या कहा-

 Can't find the ad online but here it is, apparently being played during the match. I didn't see it till @hitchwriter showed it to me Who are the people making these ads really? pic.twitter.com/zhXEaMqR3Q

— Permanently Exhausted Pigeon (@monikamanchanda) June 3, 2022

  A teenage girl was gang raped in Hyderabad-such incidents happen daily in India.. companies like @layerr_shot choose to make TV adverts joking abt & ‘cool-ifying’ rape & gangrape. Beyond disgusting! Not just tone deaf, also criminal! Absolutely shameful! What agency created it? https://t.co/8tRbDTfuez

इतना हंगामा करने के बाद इस ऐड को यू ट्यूब और ट्वि‍टर से हटा लिया गया है. हालांकि यह ऐड अभी भी सोशल मीडिया मौजूद है. अभी तो सिर्फ ऐड पर ही बैन लगा है. कपंनी पर बैन कब लगेगा? क्या कोई ऐसी टीम है तो इस तरह के ऐड पर नजर रखें जो खासकर महिलाओं को टारगेट करते हैं. ऐसे लोगों को बस अपने मुनाफे से मतलब है, अब किसी लड़की के साथ क्या होता उनको क्या मतलब...आप खुद ही बताइए कि ऐसे ऐड बनाने वालों के साथ क्या करना चाहिए?

#परफ्यूम, #विवादित विज्ञापन, #विज्ञापन, Perfume Controversial Advertisement, Perfume Ad, Perfume Controversial Advertisement Ban

लेखक

ज्योति गुप्ता ज्योति गुप्ता @jyoti.gupta.01

लेखक इंडिया टुडे डि़जिटल में पत्रकार हैं. जिन्हें महिला और सामाजिक मुद्दों पर लिखने का शौक है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय