charcha me| 

सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |   16-04-2018
ऑनलाइन एडिक्ट
ऑनलाइन एडिक्ट
 
  • Total Shares

साक्षी महाराज भी बहुत भोले हैं. अरे वही साक्षी महाराज जो भाजपा के सांसद हैं. अपने उन्नाव जिले के.. याद आ गए न? अरे वही, जो हमेशा इस बात के कारण बताते रहते हैं कि आखिर रेप क्यों होता है, लड़कियों को कैसे चलना चाहिए, कैसे रहना चाहिए, क्या करना चाहिए...

उन्हीं साक्षी महाराज के भोलेपन की एक और मिसाल सामने आई है. दरअसल, साक्षी महाराज एक रेस्त्रां के धोखे में वो एक नाइट क्लब 'Let's Meet' का उद्घाटन कर आए. उन्नाव जिले में जहां एक ओर रेप के मामले में न्याय देने की मांग तेज़ हो गई है वहीं साक्षी महाराज नाइट क्लब , माफ कीजिए रेस्त्रां के धोखे में नाइट क्लब का उद्घाटन कर आए हैं.

साक्षी महाराज, भाजपा, नाइट क्लब, सोशल मीडिया

इस मामले में जब साक्षी महाराज से पूछा गया तो उनका कहना था कि उन्हें इस बारे में इल्म ही नहीं था कि वो नाइट क्लब है. उनका कहना था कि पूर्व पार्टी अध्यक्ष रज्जन सिंह ने उन्हें ये कहा था कि ये उनके दामाद का रेस्त्रां है. भई वाह! दुनिया भर को पाठ पढ़ाने वाले साक्षी महाराज खुद अपनी ही शिक्षा नहीं सीख पाए.

साक्षी महाराज हमेशा से कहते आए हैं कि लड़कियों को क्या करना चाहिए, कहां जाना चाहिए, कैसे कपड़े पहनने चाहिए, यहां तक कि लड़कियों का रेप इसलिए होता है क्योंकि पब्लिक प्लेस पर प्रेमी जोड़े अशिष्ट और अभद्र हरकतें करते हैं, बाइक पर चिपक कर बैठते हैं, और साथ ही साक्षी महाराज तो यहां तक कह चुके हैं कि महिलाओं को चार बच्चे पैदा करने चाहिए. वो साक्षी महाराज आखिर खुद देख और समझकर नहीं जा पाए कहीं? उन्हें ये नहीं लगा कि जैसे वो दूसरों को उपदेश देते हैं उस तरह थोड़ी सावधानी उन्हें भी रखनी चाहिए थी?

साक्षी महाराज, भाजपा, नाइट क्लब, सोशल मीडिया

साक्षी महाराज अपने विवादित बयानों के लिए जितने चर्चित हैं उतने अगर अपने द्वारा किए गए काम के लिए होते तो शायद जनता उन्हें माफ कर देती और नाइट क्लब का उद्घाटन भूल जाती, लेकिन अब एक योगी और धार्मिक इंसान के रूप में उनकी छवि कुछ ऐसी है कि उन्हें जनता के सामने झेंपना पड़ रहा है.

खैर, ये पहली बार नहीं है जब किसी भाजपा विधायक या सांसद ने किसी बार का उद्घाटन किया हो. इसके पहले उत्तर प्रदेश की मंत्री स्वाति सिंह की बियर बार का उद्घाटन करने वाली तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही थीं. विपक्ष भाजपा और योगी सरकार के 'चाल, चरित्र और चेहरे' को लेकर सवाल पहले ही उठा चुकी है और अब साक्षी महाराज का ये काम तो और ज्यादा विवादों के घेरे में आ गया है.

उम्मीद है कि साक्षी महाराज थोड़ा ध्यान उन सब बातों पर भी देंगे जो वो खुद लोगों से कहते आए हैं और उनपर थोड़ा अमल करने की कोशिश करेंगे.

ये भी पढ़ें-

साक्षी महाराज कब सुधरेंगें?

एक बलात्कारी 'बाबा' के बचाव में खड़े होने वाले आखिर कितने साक्षी महाराज हैं?

लेखक

ऑनलाइन एडिक्ट ऑनलाइन एडिक्ट

इंटरनेट पर होने वाली हर गतिविधि पर पैनी नजर.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय