होम -> सियासत

 |  4-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 04 फरवरी, 2019 01:13 PM
आईचौक
आईचौक
  @iChowk
  • Total Shares

मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार को अभी दो महीने भी पूरे नहीं हुए हैं कि उनका रिपोर्ट कार्ड आना शुरू हो गया है. और जब रिपोर्ट कार्ड बीजेपी की बजाए बीएसपी सुप्रीमो मायावती दे रही हों तो बात चिंता की हो सकती है. मायावती ने मध्‍यप्रदेश चुनाव में अल्‍पमत में रहने वाली कांग्रेस को अपने दो विधायकों का समर्थन देकर सरकार बनाने में मदद की थी.

लोकसभा चुनाव की तैयारी के मद्देनजर मायावती ने मध्यप्रदेश के पार्टी पदाधिकारियों के साथ लखनऊ में एक बैठक की. बैठक में उनके तेवर जरा तीखे दिखाई दिए. विधान सभा चुनाव में अपेक्षित प्रदर्शन न करने पर एक तरफ पार्टी पदाधिकारियों की फटकार लगी तो दूसरी तरफ मध्यप्रदेश की नई सरकार के खिलाफ मायावती नाराज दिखाई दीं.

मायावती ने कहा कि 'भाजपा की सरकार के जाने के बाद मध्यप्रदेश की जनता को राहत तो है लेकिन कांग्रेस की नई बनी सरकार के शुरुआती काम भी जनता को संतुष्ट करने वाले और जनहितैषी नहीं लग रहे हैं. सरकार के जुल्म और ज्यादती अब भी बरकरार है.'

कमलनाथ सरकार पर सीधे तौर पर उंगली उठाने वाली मायावती की ये बातें सीधे तौर पर धमकी समझी जा सकती हैं. क्योंकि मध्यप्रदेश में बसपा कांग्रेस की सरकार को समर्थन दे रही है. मायावती ने कांग्रेस को मध्य प्रदेश और राजस्थान में बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया था. विधानसभा चुनाव में कांग्रेस मध्यप्रदेश में 114 सीटें जीतकर सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी थी. और बीजेपी के हिस्से 109 सीटें आई थीं. तब कांग्रेस को बसपा के 2, सपा के 1 और 4 निर्दलीय विधायकों ने सरकार बनाने के लिए अपना समर्थन दिया था. बावजूद इसके, कांग्रेस सरकार में सपा या बसपा के किसी भी विधायक को कोई मंत्री पद नहीं मिला. जाहिर है कांग्रेस की सरकार के खिलाफ खरी-खरी सुनाने के लिए ये वजह काफी है.

mayawatiकमलनाथ सरकार जनता के साथ जुल्म और ज्यादती कर रही है : मायावती

इससे पहले भी पथरिया सीट से बीएसपी विधायक रमाबाई अहिरवार ने कांग्रेस को चेतावनी दी थी कि अगर उन्हें मंत्री नहीं बनाया गया तो मध्य प्रदेश में भी कर्नाटक जैसा सियासी संकट खड़ा हो सकता है.

समर्थन की कीमत समझकर अगर कांग्रेस सरकार बसपा के विधायक को मंत्री पद दे देती तो शायद मायावती की बोली आज नर्म होती. मायावती के इस बयान को आने वाले लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस पर दबाव बनाने के प्रयास से जोड़कर भी देखा जा रहा है. वजह जो भी हो लेकिन मायावती ने आज कमलनाथ सरकार को 'फेल' घोषित कर दिया है.

लोकसभा चुनाव के लिए समाजवादी पार्टी से गठबंधन करने वाली मायावती कांग्रेस पर लगातार हमलावर रही हैं. उन्‍होंने अखिलेश यादव के साथ अपनी प्रेस कान्‍फ्रेंस में कांग्रेस को जमकर कोसा था. इतना ही नहीं, अमेठी और रायबरेली की सीट को उन्‍होंने कांग्रेस के खाते में खैरात की तरह छोड़ा था. कुछ दिन पहले जब राहुल गांधी ने 'मिनिमम इनकम गारंटी' के बारे में बात कही थी, तो मायावती ने इसे इंदिरा गांधी के 'गरीबी हटाओ' नारे की तरह खोखला बताया था. अब वही मायावती मध्यप्रदेश की नई सरकार का रिपोर्ट कार्ड जारी कर रही हैं. मान लीजिए, कि लोकसभा चुनाव में विपक्ष को मोदी से चुनाव लड़ने से पहले आपस में बहुत सारा हिसाब बराबर करना होगा.

ये भी पढ़ें-

राहुल ने समझाया किसानों को भला एक चायवाला दे भी क्या सकता है!

मायावती को राहुल गांधी का गरीबी हटाओ प्रियंका के चलते नहीं सुहा रहा

 

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय