होम -> ह्यूमर

 |  6-मिनट में पढ़ें  |  
Updated: 08 जून, 2015 04:19 PM
मृगांक शेखर
मृगांक शेखर
  @msTalkiesHindi
  • Total Shares

सूर्य और शनि इस हफ्ते फेस टु फेस हैं. जितना मीठा बांग्लादेश उतने ही कड़वे पाकिस्तान चीन हो सकते हैं - आखिर, "पाकिस्तान और चीन की दोस्ती हिमालय से भी ऊंची, महासागर से भी गहरी और शहद से भी मीठी जो है."

साथ ही, गुरु की दृष्टि चंद्रमा पर है. मेक इन इंडिया जैसे कार्यक्रमों के लिए ये हफ्ता बेहतरीन हो सकता है. किरण रिजिजु नॉर्थ ईस्ट को लेकर काफी मुखर नजर आएंगे - वैसे भी उसी इलाके में ज्यादा बारिश की संभावना है.

मेष - तेजस्वी और प्रतिभा के चमकेंगे सितारे

मेष राशि में गुरु इस हफ्ते चौथे भाव में रहेगा जिससे नेताओं खासकर लालू प्रसाद के बच्चे काफी सक्रिय नजर आएंगे - अगर नहीं तो चर्चा में जरूर रहेंगे. आरजेडी में तेजस्वी यादव का कद अचानक बढ़ने के साथ ही उन्हें कोई नई जिम्मेदारी भी दी सकती है. हो सकता है लालू उनके नाम पर अड़ जाएं, बशर्तें राबड़ी देवी इस बार सीएम बनने से इनकार कर दें, "बे छोड़िए ई सब, फिर जेल चले गए तो... ई पूछि पूछि के काम हमसे न न होगा." इस दौरान मार्गदर्शक मंडल में आडवाणी तो शंटिंग में ही रहेंगे लेकिन प्रतिभा आडवाणी के अच्छे दिन आ सकते हैं. बीजेपी में एक वरिष्ठ नेता प्रतिभा को मेनस्ट्रीम में लाना चाहते हैं, जैसे जयंत सिन्हा को लाया गया है. आम आदमी पार्टी के लिए फंडिंग के हिसाब से समय ठीक रहेगा, खासकर हर दिन - दोपहर बाद.

वृष - विरोधियों की उलझन जयललिता के लिए फायदेमंद होगी

शनि की इस सप्ताह वृष राशि पर पूर्ण दृष्टि है. शनि फायदा भी दिलाता है. एआईएडीएमके के लिए अच्छे दिनों के संकेत मिल रहे हैं, लिहाजा जयललिता को भी फायदा मिलेगा. केंद्र से रिश्तों को लेकर जयललिता की खुद की पहल जहां फायदा दिलाएंगी, वहीं राज्य में उनकी स्कीम उन्हें लोकप्रिय बनाएंगी. विरोधियों के खुद में उलझे होने का जयललिता को अतिरिक्त फायदा भी मिल सकता है. चंद्रमा के नौवें स्थान में होने से ओम प्रकाश चौटाला के लिए जनता परिवार की खबरें निराशाजनक जरूर रही होंगी - लेकिन कोर्ट कचहरी के मामलों में कुछ राहत मिल सकती है.

मिथुन - कांग्रेस और मांझी हर बात का पूरा फायदा उठाएंगे

चंद्रमा के अष्टम भाव में होने के चलते कांग्रेस और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा के लिए हफ्ते की शुरुआत निराशाजनक हो सकती है. बुधवार से बेहतर बदलाव आने के संकेत हैं. लालू-नीतीश के बीच गठबंधन होते होते नजर आने, हो जाने या नहीं हो पाने जैसी सारी परिस्थियों में कांग्रेस और जीतनराम मांझी हर बात का पूरा फायदा उठा सकते हैं, लेकिन बुधवार शाम से पहले तो कतई नहीं.

कर्क - सूट-बूट वालों के लिए बेहतरीन वक्त

सूट-बूट वालों, जो लोग परोक्ष राजनीति में सक्रिय हैं या यकीन रखते हैं उनके लिए वक्त बेहतरीन है. शुक्र और गुरु के योग के साथ चंद्रमा की दृष्टि भी इस राशिवालों पर है. उद्योगपतियों, प्रॉपर्टी डीलरों और सरकारी लाभ के लिए राजनीति करनेवालों के लिए बहुत ही फायदेमंद समय है. नए संपर्क बनेंगे, लेकिन हमेशा गाड़ी पर पार्टी का झंडा लगा कर चलना खतरनाक हो सकता है.

सिंह - मायावती शांति से बैठे रहें तो बेहतर होगा

ऐसे में जबकि सिंह राशि पर मंगल और शनि की दृष्टि है बीएसपी नेता मायावती को शांति से बैठे रहने और विवादों से दूर रहने की ही सलाह दी जा सकती है. मायावती अगर इस हफ्ते कोई नया काम न ही करें तो उनके लिए बेहतर होगा. इस राशि के उन नेताओं को जो पार्टी के लिए फंडिंग के इंतजाम में लगे हुए हैं, वीकेंड पर निराशा हाथ लग सकती है. आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के और भी अच्छे दिन आनेवाले हैं, वैसे इस हफ्ते समय सामान्य रहेगा.

कन्या - प्रियंका गांधी को मिल सकती है नई जिम्मेदारी

पंचम चंद्रमा राहत देगा. रुके काम समय पर सम्पन्न होंगे. नई जिम्मेदारी मिल सकती है. संतान सुख. वीकेंड शानदार, रुके काम हो जाएंगे - सेलेब पार्टी में काम बनेगा. पंचम भाव का चंद्रमा प्रियंका गांधी को नई जिम्मेदारी मिलने का संकेत दे रहा है. हो सकता है राहुल गांधी को लेकर हमलावर बीजेपी महिला ब्रिगेड के काउंटर के लिए हो. उधर, भीषण गर्मी के बावजूद पीयूष गोयल राहत महसूस कर सकते हैं. 'टूरिज्म दिलों को जोड़ता है,' जुमले के मार्केट में आने के बाद गोयल लंबी तो नहीं, छोटी यात्राओं का प्लान कर सकते हैं.

तुला - सरकार को मॉनसून का बेसब्री से इंतजार रहेगा

राहुल गांधी के लिए हफ्ता सुखद और आरामदेह रहेगा. पदयात्राओं से ज्यादा उनके बयान सुर्खियों में रहेंगे. गर्मी तेज होने के साथ वो सरकार पर हमले तेज कर सकते हैं. सरकार को मॉनसून का बेसब्री से इंतजार रहेगा क्योंकि तब तक राहुल गांधी कुछ निजी कार्यों में व्यस्त हो सकते हैं.

वृश्चिक - देश में नीतीश तो विदेश में मोदी सुर्खियों में रहेंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विदेशों में और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस हफ्ते देश में सबसे ज्यादा प्रभाव रहेगा. मजबूरी में ही सही लेकिन नीतीश इस हफ्ते जो भी फैसले लेंगे भविष्य में सफालता दिलाएंगे. मुमकिन है, नीतीश अचानक कुछ ऐसे राजनीतिक फैसले लें जो सबको हैरान करने वाले हों. यूपी में तोताराम यादव अभी चर्चा में कुछ दिन और रहेंगे. राशि में गोचर होनेवाले शनि पर मंगल की दृष्टि होने से आलाकमान तोताराम को औकात में रहने जैसी वार्निंग जारी कर सकता है.

धनु - राम मंदिर का मुद्दा बीजेपी को और परेशान करेगा

बीजेपी के लिए ये हफ्ता हाल के दिनों के मुकाबले बेहतर होगा. बिहार चुनाव में मांझी और पप्पू यादव को लेकर बीजेपी की उलझनें दूर होंगी, लेकिन राम मंदिर का मुद्दा अभी और परेशानी में डालेगा. आरटीआई पॉलिटिक्स में यकीन रखनेवालों को हर तरह के फायदे मिलने के संकेत हैं.

मकर - जेडीयू के प्रभाव से बीजेपी भी अछूती नहीं रहेगी

नीतीश के साथ साथ इस हफ्ते जेडीयू के भी सितारे बुलंद नजर आ रहे हैं. राशि के स्वामी शनि के साथ साथ गुरु और शुक्र की दृष्टि जेडीयू के लिए काफी फेवरेबल होगा. बिहार में आधार कम होने के बावजूद जेडीयू इस हफ्ते सभी पार्टियों पर भारी पड़ेगा जिससे बीजेपी भी अछूती नहीं रहेगी.

कुंभ - वीकेंड तक सोनिया को कोई खुशखबरी मिल सकती है

सोनिया गांधी को कोई ऐसी खुशखबरी मिल सकती है जिसका उन्हें करीब साल भर से इंतजार है. हालांकि, ऐसे समाचार के वीकेंड से पहले आने के आसार नहीं हैं. सुशील मोदी को पार्टी में अपनी भूमिका को लेकर थोड़ी उलझन रह सकती है, लेकिन वीकेंड आते आते तस्वीर साफ हो जाएगी. इसी तरह सुषमा स्वराज, साध्वी निरंजन ज्योति, साध्वी प्राची और साक्षी महाराज के लिए हफ्ता सामान्य रहेगा, बशर्तें राम मंदिर का मामला इन्हें घसीट न ले.

मीन - नायडू की तरह कोई भी शिकार हो सकता है

मीन राशिवालों के लिए हर बात में सावधानी बरतनी जरूरी है. पूरे हफ्ते उतार चढ़ाव बना रहेगा. किसी अंजान व्यक्ति द्वारा किसी भी तरह के राजनीतिक, बिजनेस या फंडिंग के प्रमोजल से बचना ही बेहतर होगा नहीं तो बंगारू लक्ष्मण जैसे हाल हो सकते हैं. कई टीमें स्टिंग ऑपरेशन के लिए शिकार ढूंढ रही हैं. चंद्रबाबू नायडू तो नमूना भर हैं. वैसे इसके पीछे कौन है ये बताने की जरूरत नहीं है - नेता तो सबसे समझार जीव होते हैं.

Astrology, Politics, Weekly Forecast

लेखक

मृगांक शेखर मृगांक शेखर @mstalkieshindi

जीने के लिए खुशी - और जीने देने के लिए पत्रकारिता बेमिसाल लगे, सो - अपना लिया - एक रोटी तो दूसरा रोजी बन गया. तभी से शब्दों को महसूस कर सकूं और सही मायने में तरतीबवार रख पाऊं - बस, इतनी सी कोशिश रहती है.

iChowk का खास कंटेंट पाने के लिए फेसबुक पर लाइक करें.

आपकी राय