टेक्नोलॉजी

 |  4-मिनट में पढ़ें  |   09-01-2017

नोकिया ने 2017 का अपना पहला एंड्रॉयड फोन लॉन्च कर दिया है. नोकिया 6 नाम से लॉन्च हुआ ये फोन कंपनी की तरफ से आई दूसरी एंड्रॉयड सीरीज का फोन है. पहली एंड्रॉयड X सीरीज इस कदर फ्लॉप हुई थी कि फिलहाल उसकी बात ना ही की जाए तो बेहतर है. खैर, फिलहाल तो इस फोन का इंतजार टेक जगत के कई लोग कर रहे थे. फोन के जो फीचर्स हैं वो किसी भी आम लो बजट फोन के हिसाब से तो बहुत अच्छे हैं, लेकिन नोकिया से उम्मीदें ज्यादा होने के कारण ये फोन उतना बेहतर नहीं लगा.

nokia_650_010917120805.jpg
 नोकिया से उम्मीदें इतनी ज्यादा थीं कि अब नोकिया 6 थोड़ा फीका सा लग रहा है

पहले की जाए फोन की बात...

फोन HMD ग्लोबल ब्रांड के तहत नोकिया का ये फोन लॉन्च हुआ है. HMD ग्लोबल एक फिनिश (फिनलैंड की) फर्म है जिसके पास नोकिया ब्रांड के फोन बेचने की इजाजत है. पिछले साल से ही सुकबुकाहट चल रही थी कि नोकिया नया एंड्रॉयड फोन लाने वाली है और तकनीकी दुनिया के लगभग सभी दिग्गज बेसब्री से इसका इंतजार कर रहे थे, लेकिन फिलहाल नोकिया 6 से निराशा ही हाथ लगी है.

ये भी पढ़ें- मोबाइल से इतना प्यार कि उसी से कर ली शादी

हालांकि, इसके बारे में पूरी जानकारी अभी नहीं दी गई है, लेकिन फिर भी स्पेसिफिकेशन को देखें तो ये किसी भी आम चीनी फोन की तरह ही है. अरे भाई, नोकिया है... हम उससे कुछ उम्मीदें लगाए बैठे थे. बहुत सोचा था कि नोकिया का फोन आते ही कुछ इनोवेटिव लेकर आएगा. 2017 में एक बार फिर नोकिया ब्रांड लोगों के दिलों में अपनी जगह बनाएगा, लेकिन शुरुआत तो उतनी अच्छी नहीं हुई है. हालांकि, अभी और फोन्स लॉन्च होने बाकी हैं, लेकिन फिर भी फर्स्ट इम्प्रेशन तो खराब हो ही गया.

अब देखते हैं फैक्ट्स...

नोकिया 6 फोन सिर्फ चीन में लॉन्च हुआ है. इसकी कीमत लगभग 17000 रुपए के आस-पास है. चलिए कीमत के मामले में तो ये ठीक है.

- अब अगर फीचर्स को देखें तो एंड्रॉयड नोगट 7.0 है इसमें. जो फिलहाल 15000 के फोन्स में आने लगा है. सभी मोटो यूजर्स के लिए ये अपग्रेड हो गया है.

- इसके अलावा, 5.5 इंच की फुल एचडी स्क्रीन है जिसमें 2.5D ग्लास लगा हुआ है. इसमें भी कुछ नया नहीं है. जहां एक ओर सैमसंग और शाओमी जैसी कंपनियों ने 3D ग्लास वाले फोन्स भी लॉन्च कर दिए हैं वहीं, 2.5D ग्लास अब कुछ खास आकर्षित नहीं कर सकता.

- दूसरी तरफ अगर प्रोसेसर को देखें तो इसमें क्वालकॉम स्नैपड्रैगन 430 प्रोसेसर दिया गया है. अब अगर मैं अपनी बात करूं तो मुझे मिड रेंज फोन्स में ऑक्टा-प्रोसेसर उतने सही नहीं लगते हैं. क्वाड-कोर प्रोसेसर इसी जगह ज्यादा बेहतर परफॉर्म कर सकता है. स्नैपड्रैगन 430 की अगर आप खासियत देखें तो इसकी सीपीयू स्पीड अधिकतम 1.4 GHz क्लॉक हो सकती है और हर कोर (लेयर) यही स्पीड देगी. आसान भाषा में अगर समझाऊं तो स्पीड रैम के मुताबिक कम होगी. इस फोन में 4GB रैम है जो फिर से किसी भी आम फोन में मिल जाएगी.

nokia_651_010917120933.jpg
 फीचर्स के मामले में ये फोन कुछ नया कर दिखाने में नाकाम रहा है

- कैमरे में 16 मेगापिक्सल रियर और 8 मेगापिक्सल फ्रंट है. फेज (Phase) ऑटो-फोकस डिटेक्शन और डुअल टोन फ्लैश है और किसी भी आम मिड-रेंज फोन की तरह ही है.

- 3000 mAh पावर की बैटरी है. हां बॉडी जरूर कुछ अलग है जिसमें 6000 एल्युमीनियम का इस्तेमाल किया गया है. पर बाजार पहले ही मेटैलिक फोन्स से पटा हुआ है. ऐसे में नोकिया ने अलग क्या किया? डॉल्बी एटम स्पीकर हैं, हां ये बाकी फोन्स में भी हैं.

अब अगर देखें तो नोकिया में क्या ऐसा अलग है जो इसे बाकी चीनी फोन्स से आगे कर दे? जवाब है फिलहाल कुछ नहीं! अगर ये फोन किसी अन्य ब्रांड ने लॉन्च किया होता तो इसे बेहतर कहा जाता, लेकिन नोकिया जिसे अपनी वैल्यू बचानी है उससे इसकी उम्मीद नहीं की जा सकती थी. अभी भी ऐसे कई लोग हैं जो सिर्फ नोकिया ब्रांड के नाम से फोन खरीद लें, लेकिन मार्केट में राज करने से पहले नोकिया को चीनी स्मार्टफोन्स से तो ऊपर उठना होगा.

ये भी पढ़ें-स नोकिया फोन ने मजबूती के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए...

नोकिया अपनी मजबूती, बरोसे के लिए फेमस था, लेकिन नए फोन में ऐसा कुछ भी नहीं. कोई इनोवेशन नहीं. मोटोरोला ने शैटर प्रूफ फोन लॉन्च कर दिया है, सैमसंग ने 3D ग्लास का इस्तेमाल आम कर दिया है, शाओमी ने भी इनोवेशन की तरफ देखा है, लेकिन नोकिया अभी भी नहीं बदला. कंपनी पहले भी काफी देर से जागी थी और सैमसंग ने बाजी मार ली थी. माइक्रोमैक्स कंपनी भी इसलिए हिट हुई थी क्योंकि माइक्रोमैक्स ब्लिंग नाम से एक इनोवेटिव फोन भारतीय बाजार में लॉन्च हुआ था जिसने रातोंरात कंपनी को लाइमलाइट में ला दिया था. उसके बाद रही सही कसर कैनवास सीरीज ने पूरी की थी.

उम्मीद है कि MWC (मोबाइल वर्ल्ड कांग्रेस) में नोकिया कुछ नया और इनोवेटिव लेकर आती है. फिलहाल नोकिया 6 मार्केट में उतरने के लिए तो ठीक है, लेकिन मार्केट में राज करने के लिए कुछ नया करना नोकिया के लिए जरूरी है.

लेखक

श्रुति दीक्षित श्रुति दीक्षित @shruti.dixit.31

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं.

आपकी राय