charcha me | 

समाज

 |  4-मिनट में पढ़ें  |   21-12-2016

जरा गौर करें, बुरे ख्याल मन में आ रहे हों, या मामला अला बला का हो, तो फट से किसी की बलि दे दो. बहुत से अंधविश्वासियों का यही मानना है. अब चाहे वो भारत हो या पाकिस्तान, अपने अंधविश्वासों को लेकर दोनों करीब करीब एक जैसे ही हैं. लेकिन यहां तो पाकिस्तान बाजी मार गया.

अभी कुछ दिन पहले पाकिस्तान एयरलाइंस का एक विमान हादसे का शिकार हो गया था, जिसमें 47 लोग मारे गए थे. ना मालूम किसकी नजर लगी थी कि ऐसा हादसा हो गया. किसी को ऐसा ही कुछ खयाल आया और पाकिस्तान एयरलाइंस के अधिकारी तुरंत हरकत में आ गए. समस्या का हल निकालने में जुट गए. पाकिस्तान की एयरलाइन्स में काम करने वाले पढ़े-लिखे अधिकारियों ने अपनी सूझ-बूझ और काबीलियत से तुरंत ही समस्या का समाधान निकाल लिया.

pia-denies-technical_122116055806.jpg
  7 दिसंबर को पाकिस्तानी विमान हादसे का शिकार हो गया था

इस्लामाबाद एयरपोर्ट पर रविवार को विमान की उड़ान से ठीक पहले रनवे पर बाकायदा एक काला बकरा मंगवाया गया और उसकी गर्दन कटवाई गई. इस बलि का मकसद सिर्फ इतना था कि विमानों की बुरी नजर उतर जाए और फिर कोई हादसा न हो. बताया जा रहा है कि पाकिस्तान इंटरनेशनल एयरलाइंस के पास कुल 10 एटीआर विमान हैं. और अब से ये विमान जब भी उड़ान भरेंगे तो ठीक इसी तरह हर बार एक काला बकरा कुर्बान किया जाएगा, ताकि हादसा न हो. सुनने में तो ये भी आया है कि अधिकारियों ने ये काम एक मौलवी की सलाह पर किया है.

ये भी पढ़ें- हम सोते रहे और पाकिस्तान आगे निकल गया...

इस पूरी कहानी से ये बात तो साबित हो गई कि पाकिस्तान अपने लोगों की कितनी फिक्र करता है. वो लोगों की सुरक्षा में कोई कसर छोड़ना नहीं चाहते. गौरतलब है कि विमान हादसे के बाद PIA ने दावा किया था कि वो विमान हादसा किसी तकनीकि खराबी की वजह से नहीं हुआ था, विमान के दोनों इंजन उड़ान के समय पूरी तरह से ठीक थे.

अब हादसे अगर किसी अला बला की वजह से हों तो उसे वैसे ही तो डील किया जाएगा न. एक तो पाकिस्तान ने पूरी दुनिया के सामने विमान हादसों को रोकने का अनोखा नुस्खा सुझाया था, पर लोग न जाने क्यों इस तस्वीर को वायरल किए पड़े हैं. हमारे देश में भी ऐसी सोच रखने वाले कम नहीं हैं.

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

आपकी राय