charcha me | 

समाज

 |  3-मिनट में पढ़ें  |   20-03-2017

परफेक्ट बॉडी कौन नहीं चाहता और परफेक्ट बॉडी पाने के लिए हम पता नहीं क्या-क्या करते हैं. चाहे डाइटिंग हो या नियमित व्यायाम. अपना वजन कम करने के चक्कर में अपने पसंदीदा खाने से तौबा करते हैं, जिम में पसीना बहाते हैं लेकिन फिर भी उतना वजन कम नहीं हो रहा जितना की आप चाहते हैं? है ना? तो जानिए इसके पीछे का कारण क्या है. ऐसा इसलिए है क्योंकि आप शायद अच्छी तरह सो नहीं रहे हैं.

चौंकिए मत ये सच है. ढंग की और नियमित नींद लेने से शरीर के अनचाहे मांस से छुटकारा मिल सकता है. वर्ल्ड स्लीप सोसाइटी (डब्ल्यूएसएस) के मुताबिक, 'अच्छे स्वास्थ्य के तीन स्तंभों' में से एक है नींद. रोजाना आठ घंटें की भरपूर नींद लेने से वजन-संबंधित मुद्दों से लड़ने में फायदा मिलता है. 17 मार्च को मनाए जाने वाले वर्ल्ड स्लीप डे पर जारी किए गए एक दस्तावेज़ में कहा गया कि- रात की अच्छी और आरामदायक नींद को लोगों को मजाक में नहीं लेना चाहिए. ये उतना ही जरुरी है जितना की खाना खाना. साथ ही इन्होंने लोगों से अपील की 'अच्छी नींद सोएं, जीवन का पोषण करें'.

डब्ल्यूएसएस के दस्तावेज़ के मुताबिक, 'जिन लोगों को बिना किसी रुकावट के पूरी रात भरपूर और गहरी नींद आती है, उन्हें उच्च रक्तचाप, मधुमेह, मोटापा और अन्य तरह की पुरानी बीमारियों से ग्रसित होने का खतरा कम होता है'. इसने आगे लिखा है- 'खाना और पीना की तरह नींद भी मनुष्य के लिए एक बुनियादी जरूरत ही है.' सही समय पर सोने से आधी रात को लगने वाली भूख से छुटकारा मिलता है. साथ ही जो लोग एक नियमित समय पर सोते हैं वो अपने थके हुए समकक्षों की तुलना में पांच प्रतिशत अधिक कैलोरी जलाते हैं.

sleep-650_032017053235.jpgजो सोवत है सो फैट खोवत है!दस्तावेज़ में यह भी कहा गया है कि नियमित नींद नहीं लेने से शरीर में प्राकृतिक हार्मोन लेवल कम हो जाते हैं. इसमें भूख बढ़ाने वाला घ्रेलिन हॉर्मोन भी है. घ्रेलिन खासकर कार्बोहाइडरेट और मीठा युक्त भोजन के लिए चाह बढ़ाता है. हमारा दिमाग ये बताना बंद कर देता है कि अब हमारा पेट भर चुका है और हमें और नहीं खाना चाहिए. इसके कारण भूख बढ़ती है और हम लगातार कुछ ना कुछ खाते रहते हैं.

यह पहली बार नहीं है जब शोधकर्ताओं ने अच्छी नींद के फायदे पाए हैं. इससे पहले भी ओबेसिटी नाम के एक जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया था कि आराम की नींद सोने वाले पुरुष डिस्टर्ब स्लीप वाले पुरुषों की तुलना में लगभग 1,300 कैलोरी एनर्जी ज्यादा खर्च किया.

वहीं एक स्वीडिश स्टडी में पाया गया था कि जिन लोगों की नींद सही से पूरी नहीं होते वो पर्याप्त नींद सोने वाले लोगों की तुलना में रोजाना 35 कैलोरी एनर्जी का ज्यादा सेवन करते हैं. फिर आप आखिर किसका इंतजार कर रहे हैं? फोन को साइलेंट पर कीजिए और घुस जाइए बिस्तर में. आखिर सोना ही सोना है.

ये भी पढ़ें-

फिटनेस के लिए Freak होने की जगह अपनाएं ये 4 छोटे उपाय

इस 'मोटे' पुलिसवाले की बात भी सुनी जानी चाहिए...

डेडिकेशन सीखना है तो आमिर से सीखिए

लेखक

आईचौक आईचौक @ichowk

इंडिया टुडे ग्रुप का ऑनलाइन ओपिनियन प्लेटफॉर्म.

आपकी राय