charcha me| 

सोशल मीडिया

 |  2-मिनट में पढ़ें  |   20-04-2017
पारुल चंद्रा
पारुल चंद्रा
  @parulchandraa
  • Total Shares

अज़ान की वजह से सोनू निगम की नींद में भले ही खलल पड़ता है, धार्मिक स्‍थलों में लाउडस्‍पीकर के प्रयोग को वो भले ही ‘गुंडागर्दी’ बता रहे हों, लेकिन भारत में अज़ान को लेकर ज्यादातर लोगों की ऐसी राय नहीं है. इन तमाम लोगों में वो दो लोग जो पूरे भारत के चहेते हैं, कम से कम वो तो एक राय ही रखते हैं. पहले देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दूसरे बॉलीवुड के सुल्तान सलमान खान. अब चुंकी अज़ान का मामला सोनू जी की वजह से सुर्खियों में बन गया है तो यहां मोदी जी और सलमान खान का जिक्र करना तो बनता है.

modi-salman-650_042017025352.jpg

दोनों ने ही पब्लिक प्लैटफॉर्म पर कुछ ऐसा किया जिससे आप इन दोनों के विचारों और मूल्यों का आकलन आसानी से कर सकते हैं. ये दो वीडियो इस समय वायरल हैं, इन्हें आप सोनू निगम के लिए करारा जवाब कहिए या फिर आईना, पर इन्हें देखकर इन दोनों के लिए आपकी इज्जत थोड़ी बढ़ जरूर जाएगी.

पहले वीडियो में नरेंद्र मोदी भाषण दे रहे हैं, उन्होंने भाषण शुरू ही किया था लेकिन तभी लाउडस्पीकर से अज़ान की आवाज सुनाई दी , मोदी जी रुके और उन्होंने तुरंत माइक नीचे कर लिए, और जब तक अज़ान की आवाज सुनाई आती रही मोदी जी चुप ही रहे. और अजान खत्म होने पर उन्होंने अपना भाषण दोबारा शुरू किया. और इसपर जो उन्होंने कहा वो इस वीडियो में सुनिए-

वहीं बिग बॉस की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सलमान खान अज़ान की आवाज सुनते ही रुक गए, और तब तक कुछ नहीं बोले जब तक अज़ान चलती रही. उन्होंने अपने काम से ज्यादा अहमियत अज़ान को दी. देखिए ये वीडियो-

सोनू निगम ने लाउडस्‍पीकरों के ऐसे इस्तेमाल को ‘गुंडागर्दी’ बताया, लेकिन इन्हीं लाउडस्पीकरों से आती अज़ान की आवाज पर मोदी और सलमान खान ने सम्मान जताया. तो सोनू जी भले ही उस दिन का इंतज़ार कर रहे हों कि 'कब इस तरह की जबरदस्ती की धार्मिकता खत्म होगी' लेकिन जिस देश में लोग दूसरे धर्म की प्रार्थना और आस्था के प्रति इतना सम्मान रखते हों वहां ये धार्मिकता ऐसी ही बनी रहे यही उम्मीद की जाती है.

ये भी पढ़ें-

दुनिया में कई देश हैं जहां अल्‍लाह तक बात बिना लाउडस्पीकर पहुंचती है

सोनू निगम के नाम खुला खत : समस्‍या अजान में नहीं आपकी नींद में है

बात निकलेगी, तो फिर दूर तलक जायेगी

लेखक

पारुल चंद्रा पारुल चंद्रा @parulchandraa

लेखक इंडिया टुडे डिजिटल में पत्रकार हैं

आपकी राय