charcha me| 

सियासत

 |  3-मिनट में पढ़ें  |   11-01-2017
कुमार अभिषेक
कुमार अभिषेक
  @kr.abhishek.52
  • Total Shares

कहते है आखिरी चंद लम्हे किसी भी खेल का वो वक्त होता है जब कोई भी बाजी पलटी जा सकती है और आखिरी दौर जीतने वाला ही बाजीगर होता है. मुलायम सिंह भारतीय राजनीति के वो बाजीगर कहे जाते है जिनकी अगली चाल को बड़े बड़े सियासत दां भी नहीं भांप पाते, अपनी इसी खास पहचान को इसबार मुलायम सिंह ने अपने बेटे अखिलेश पर आजमाया है.

mulayam-singh-yadav6_011117120044.jpg
 सियासी लड़ाई में पिछड़ने के बाद मुलायम हर हाल में भावनाओ की जंग जीतना चाहते हैं

सोमवार रात दिल्ली से लखनऊ लौटे मुलायम ने ऐलान किया कि अखिलेश ही पार्टी की तरफ से अगले मुख्यमंत्री के उम्मीदवार होंगे. याद कीजिये, मुलायम ही वो शख्स है जिन्होंने अबतक अखिलेश यादव को अगला सीएम प्रोजेक्ट करने से सार्वजनिक तौर पर इंकार करते रहे हैं, लेकिन ऐसा क्या हुआ कि दिल्ली से लौटते ही पिता के सुर बेटे के लिए बदल गए.

उत्तर प्रदेश की सियासत में इस वक्त वो दौर चल रहा है जिसमें अखिलेश और मुलायम की जंग war of nerve में तब्दील हो चुकी है. बेटा सियासी गणित में पिता को पछाड़ चुका है, पिता मुलायम, बेटे अखिलेश को सियासी हीरो तो देखना चाहते हैं लेकिन इमोशन की लड़ाई के इस आखिरी दौर को हर हाल में जीतना चाहते हैं. यही वजह है कि चुनाव आयोग में हलफनामे और काउंटर हलफनामे के बाद अब ये लड़ाई भावनाओं की जंग में तब्दील हो गई है.

ये भी पढ़ें- एक परिवार एक टिकट कितना कारगर ?

पार्टी का 90 प्रतिशत कैडर अखिलेश के साथ खड़ा है, 5 जनवरी के इस अधिवेशन में ये भी दिख गया कि मुलायम के सभी पुराने सिपहसालार उनका खेमा छोड़ चुके हैं, लेकिन मुलायम आखिरी दम तक हार नहीं मानने की अपनी जिस फितरत के लिए जाने जाते हैं वो अब भी दिखाई दे रहा है.

मुलायम ने ये तो मान लिया कि सियासी विरासत बेटे अखिलेश के पास जा चुकी है और इसकी एक झलक उन्होंने रविवार को दिल्ली में अपने करीबियों से निजी बातचीत में ये कहकर जता दी कि मेरे साथ अब कोई नहीं, सभी अखिलेश के साथ जा चुके हैं, लेकिन बेटा उनकी सियासी जमीन और उच्च नैतिक मानदंड दोनों ले जाये ये मुलायम सिंह होने देना नहीं चाहते.

akhilesh-yadav650_011117120156.jpg
 अब अखिलेश पर रहेगा पिता को अध्यक्ष मानने का दबाव

अबतक ये मानकर चला जा रहा था कि मुलायम के भीतर किंग या किंगमेकर बनने की ख्वाहिश बची हुई है, लेकिन अब जबकि बेटे के हाथ सब जा चुका है तब मुलायम ने बेटे को सीएम प्रोजेक्ट कर वो चाल चली है जो उन्हें फिर से उस दर्जे पर ले आएगी जहां अब लोग अखिलेश यादव पर इस बात को मानने का दबाव बनाएंगे कि इस उम्र में तो उनसे अध्यक्ष पद छीनने की जिद छोड़ दें.

गौरतलब है कि सुलह की स्क्रिप्ट यहां पर आकर ठहर जाती थी जब मुलायम को अध्यक्ष बनाए रखने की मांग अखिलेश ठुकरा देते हैं. अब लोग इस बात की चर्चा जरूर करेंगे कि जब पिता ने अखिलेश को सीएम प्रोजेक्ट कर दिया तो अखिलेश यादव को भी पिता को अध्यक्ष मानने को तैयार हो जाना चाहिए.

ये भी पढ़ें- दोबारा सत्ता पाने के लिए अखिलेश का 'मोदी फॉर्मूला'

यहां से अखिलेश पर भावनात्मक दबाव उन हजारों पुराने समाजवादियों का भी होगा जो हर हाल में पिता पुत्र में सुलह देखना चाहते हैं. लेकिन सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या अखिलेश अब भी मुलायम को राष्ट्रीय अध्यक्ष दोबारा मानने पर तैयार होंगे.

अगर अखिलेश नहीं झुकते तो समाजवादी वोटरों के बीच मुलायम के भावनात्मक बाजी जीतेंगे और अखिलेश पर सवाल उठेंगे और अगर अखिलेश झुके तो उन्हें अपने समर्थकों के बीच हारना होगा. मुलायम के इस दांव के बाद तमाम नजरें अखिलेश पर टिक गई हैं.

लेखक

कुमार अभिषेक कुमार अभिषेक @kr.abhishek.52

लेखक लखनऊ में टीवी टुडे के विशेष संवाददाता हैं.

आपकी राय